तो इसलिए अकबर ने नही किया अपने बेटियों कि शादी वजह जानकर हैरान हो जायेंगे आप ?

0
472

वैसे आप सभी ने तो अकबर के किस्से सुने होंगे और आज तक आपने अकबर कि महानता के ही चर्चे सुने है लेकिन आज हम आपको अकबर कि एक ऐसी घिनौनी सच्चाई बताने जा रहे है जिसके बारे में आप सोच भी नही सकते कि क्या सच में अकबर ऐसा था जी हाँ अकबर अपने समय का एक क्रूर और हिन्दू विरोधी शाशक था और इतना ही नही उसमे इतना अहंकार था कि अआप सोच भी नही सकते | लेकिन आज हम आपको उसके जीवन की कुछ छुपी हुई सच्चाई उजागर करने वाले है |

क्या आपको पता है कि अकबर ने अपने बेटियों का विवाह नही किया अगर नही पता तो आज हम आपको बता दे कि अकबर ने अपने किसी भी बेटी का विवाह नही किया था जी हाँ और आपको बता दे कि एल लड़की के बाप को कही किसी के सामने झुकना न पड़ जाये इसके कारण अकबर ने अपने बेटियों का विवाह नही किया अकबर कि कुल 3 बेटिया थी और इनमे से किसी का विवाह उसने नही किया और इतना ही नही अकबर एक आय्यास किस्म का इन्सान था |

आपको बता दे कि उसकी पत्नियों के हरम में किसी भी पुरुष का आना वर्जित नही था क्योकि अकबर को अपने पत्निओं पर इतना विश्वास नही था और अकबर को हमेशा लगता था कि कही उसकी पत्नियाँ किसी से अवैध संबंध न बना ले और इसी वजह से उनके कमरों कि रखवाली किन्नरे करती थी | और इसी वजह से अकबर अपने पत्नियों पर भी विश्वाश नही करता था |

और जब अकबर कि मृत्यु हुई तब उसके बाद अकबर का राज ख़तम हुआ लेकिन अकबर के हिन्दू विरोधी होने के कारण नाराज हुए हिन्दुओ ने अकबर के कब्र को खुदवा कर उसकी हड्डियों को अपने हिन्दू रीतिरिवाजों से उसका दाह संस्कार किया था और आपको बता दे कि इस घटना का जिक्र तवरीफ-ए-आगरा कि किताब में इस घटना का जिक्र है |

अब आपको बताते है कि अकबर के बारे में लिखा क्या गया है ?

अकबर के बारे में लिखा बैरम खां ने निहत्थे और बुरी तरह घायल हिन्दू राजा हेमू के हाथ पैर बांध दिये थे और उसे शहजादे के पास ले गया और बोला आप इस अपने शुभ हाथो से मौत के घाट उतार दे और इसे गाजी की उपाधि कबूल करें और शहजादे ने उसका शिर उसके अपवित्र धड से अलग कर दिया और इया=स तरह अकबर ने 14 साल कि उम्र में ही गाजी (काफिरों का कातिल) होने का सम्मान पाया इसके बाद हिन्दू राजा हेमू के कटे सर को कबूल भिजवा दिया और उसके धड को दिल्ली के दरवाजे पे टांग दिया था |

आपको शायद पता होगा कि अकबर का सबसे अच्छा अंगरक्षक और सेनानी बैरम खान था जो कि कबर के पिता के उम्र का था और उसने अपने इतने करीब अंगरक्षक की भी हत्या करवा दी और उसकी पत्नी के साथ अपनी हवस मिटाई थी |

देखें विडियो:-