कैसे होता है किन्नर का अंतिम संस्कार और क्या होता है उनके शव के साथ जानिए सबसे बड़ा रहस्य देखें विडिओ?

0
104

किन्नरों की दुनिया हम आम इंसानों से काफी अलग होती है इसमें कोई संदेह नही है और किन्नरों के बारें में काफी कम लोगो को उनके जीवन के बारें पता होता है और सभी के मन में के सवाल रहता है की आखिर इनके समाज के लोग किस तरह से अपना जीवन व्यतीत करते है आज हम आपको इनके जीवन से जुडी कुछ ऐसे रहस्य के बारें में बताएँगे जिसके बारें में आप शायद ही कभी जान पाए रहोगे और आपको बता दे की इनकी दुनिया जितनी ही अलग होती है उतनी ही अलग इनके रीती रिवाज और संस्कार भी उतने ही अलग होते है और आज हम इनके मौत के बारें में बताने वाले है की आखिर इनका अंतिम संस्कार कैसे होता है और क्या होता है इनके शव के साथ |

आपको बता दे की किन्नरों के अंतिम संस्कार को गोपनीय रखा जाता है आपको बता दे की बाकि धर्मो के अनुसार किन्नरों की अनितं यात्रा दिन के जगह रात में निकलती है और किन्नरों के अंतिम संस्कार को गैर किन्नरों से छिपाकर किया जाता है और ऐसा माना जाता है की अगर किसी आम इन्सान ने किन्नरों के अंतिम संस्कारों को देख लिया तो मरने वाले किन्नर का अगले जन्म किन्नर के रूप में ही होता है |

वैसे आपको बता दे की किन्नर ज्यादातर हिन्दू धर्म को ही मानते है लेकिन आपको बता दे की किन्नरों के शव को जलाया नही बल्कि दफनाया जाता है और एक अहम् बात आपको बता दे कि जब भी किसी किन्नर की मौत होती है तो इनके शव को जुते चप्पलों से पीटा जाता है |

आपको बता दे की किन्नर के उस जन्म में किये सारे पापों का प्रायश्चित हो जाता है ओने समुदाय में किसी की मौत होने के बाद किन्नर अगले एक हफ्ते तक खाना नही खाते आपको जानकर हैरानी होगी की किन्नर समाज अपने किसी भी सदस्य के मौत का मातम नही मनाते और इसके पीछे वजह यह है की किन्नर को नरक रूपी जिंदगी से मुक्ति मिल गयी |

आपको बता दे की जब भी कोई किन्नर मरता है उसके बाद उसके शव को जलाने के बजाय दफनाया जाता है और मातम मनाने के बजाय ये खुशियाँ मनाते है और अपने अराध्य देव से कहते है की इसका अगला जन्म किन्नर रूप में न मिले |

देखें विडिओ:-