देखें विडिओ में किस प्रकार द्रौपदी ने मनाया था अपने पांच पतियो साथ सुहागरात ?

0
512

वैसे सबको पता है कि द्रौपदी कौन थी और ये इस युग की बात है वैसे आपको नहीं पता तो हम आपको बता दे कि ये घटना महाभारत काल कि है जिसमे जब अर्जुन ने द्रौपदी से विवाह करके लाये थे तो अनजाने में उनकी माता कुंती ने ये कह दिया था कि सब आपस में बाँट लो और इसी वजह से द्रौपदी को पांच पांड्वो के साथ विवाह करना पड़ा था | वैसे आज हम बात करे इस विषय की तो हमारे हिन्दू धर्म में कई लोग इसका मजाक उड़ायेंगे लेकिन ये घटना जो हो चुकी है ये सत्य है और महाभारत में इसका जिक्र भी है |

वैसे आपको बता दे कि ये सच्चाई कुछ और है जो आज हम आपको बताएँगे वैसे आपको बता दे कि यह सब महादेव का रचा हुआ था आपको बता दे कि द्रौपदी ने भगवान शिब कि पूजा करके उनसे वरदान माँगा था |कि उन्हें बल, बुद्धि, कौशल, शौर्य और नैतिकता में परिपूर्ण वर प्राप्त हो लेकिन ऐसा संभव नही हो सका हर किसी न किसी व्यक्ति में कुछ न कुछ कमी होती थी |

और इसी वजह से द्रौपदी को ये सारे गुण उनके अलग अलग पतियों में मिले और इसी कारण उन्हें पांडवो से शादी करनी पड़ी थी | और जब अर्जुन ने द्रौपदी को शादी करके घर लाये थे थो अनजाने में माँ कुंती ने कह दिया था कि इसे आपस में सब बाट लो और अपनी माँ कुंती का मान रखने के लिए पांडवो को द्रौपदी से शादी करनी पड़ी |

इसके बाद पांडवो में यह निर्णय लिया गया कि प्रत्येक वर्ष किसी एक ही पांडव के साथ अपना समय व्यतीत करेंगी और जो कोई भी इस निर्णय का दुरूपयोग करेगा उसे एक वर्ष तक वनवास जाना होगा और जब भी द्रौपदी किसी पांडव के साथ अकेले में समय व्यतीत कर रही होती तो दुसरे पांडव को उस कक्ष में आना वर्जित होता था | बाकि सारी बाते आपको इस विडियो को देखने के बाद पता चल जाएगी कि किस प्रकार द्रौपदी ने अपने पांचो पतियों के साथ सुहागरात मनाई थी|

देखें विडियो:-