देखिये क्या हुआ जब आतंकियों ने अगवा किया एक सैनिक, टीवी रिपोर्टर, और jnu के प्रोफ़ेसर को

    0
    5883

    काल्पनिक पोस्ट 

    जेएनयू के एक प्रौफेसर, एक टीवी चैनल के रिपोर्टर और भारतीय सेना के एक कर्नल का कश्मीर में आतंकवादियों ने अपहरण कर लिया । तीनों को मौत के घाट उतारने का हुक्म हुआ । बन्दियों को मारने से पहले उनकी अन्तिम इच्छा पूछी गई ।

    जेएनयू प्रौफेसर – “मैं तो कश्मीर को भारत से आजादी का समर्थक हूँ । आप कृपया मुझे न मारें । दिल्ली वापिस जाकर मैं आपकी दयालुता पर लम्बा व्याख्यान दूँगा ।”

    रिपोर्टर – “मुझे भी मत मारिये, जनाब । मैं भी भारत-सरकार को खूब कोसता हूँ । वापिस जाकर मैं आपकी विचारधारा पर अपने चैनल पर शानदार बहस कराऊँगा ।”

    कर्नल – “मेरी हत्या करने से पहले मुझे पीटा जाय ।”

    आतंकी सरगना (कर्नल से) – “तुम भी अपनी जान बख्शने के लिए गिड़गिड़ाओ । फिर हम अपना फैसला सुनायेंगे ।”

    कर्नल – “नहीं । मैं चाहता हूँ कि मेरी हत्या से पहले मुझे पीटा जाय ।”

    Image result for indian army

    आतंकी सरगना के इशारे पर एक आतंकी ने भारतीय सेना के कर्नल पर अपनी एके-47 के बट से वार किया । कर्नल ने फुर्ती से एके-47 छुड़ा ली और दनादन सभी आतंकियों को ढेर कर दिया ।

    प्रौफेसर और रिपोर्टर ने कर्नल से पूछा – “तुम्हारे अन्दर इतनी हिम्मत और हौसला था तो तुमने आतंकी से खुद को पिटवाया क्यों ? तुम ये फुर्ती और बहादुरी शुरू में भी दिखा सकते थे ।”

    कर्नल – “मैं चाहता था कि लड़ाई की पहल वो करें । क्योंकि अगर मैं पहल करता तो तुम दोनो मुझे ही कटघरे में खड़ा कर देते और अपनी सरकार एवं जनता को सफाई देते-देते मेरी उम्र गुजर जाती ।”